Show me an example

Thursday, April 29, 2021

मेरी सुनवाई हो रही है!




नागरिक की भलाईs के लिए सब चिंतित थे इसलिए सब सुनवाई में बिजी थे। सुनवाई के लिए पेशी होती जा रही थी। पेश होने वालों की संख्या बढ़ती जा रही थी। नागरिक टकटकी लगाए अपनी सुनवाई की ओर देख रहा था। कल दस लोग पेश हुए थे। आज सत्रह लोग होंगे। कल सुनवायी पर एक सौ बावन ट्वीट आए थे। आज पौने तीन सौ आने की संभावना है। 

कई दिनों तक चलने के बाद भी सुनवाई कहीं नहीं जा सकी। बस चलती जा रही थी। अस्पतालों के वकील, राज्य सरकार के वकील, केंद्र सरकार के वकील एक जुट होकर बहस करते जा रहे हैं। बहस भी मज़े में होती जा रही है। ऐफ़िडेविट फ़ाइल किए जा रहे हैं। सवाल पूछे जा रहे थे। जवाब माँगे जा रहे हैं। वकील हायर किए जा रहे हैं। वकील फ़ायर किए जा रहे हैं। 
बस नागरिक बेचारा सबको निहार रहा है, ख़ुश होकर मानो कह रहा हो; चलो किसी ने सुनवाई की। उधर नागरिक को इज़्ज़त देते हुए प्रश्न पूछे जा रहे हैं; 
ऑक्सिजन किसे देना था? किसने दिया? कितना देना था? कितना दिया? जितना देना था यदि उतना नहीं दिया तो क्यों नहीं दिया? जिसे मिलना था क्या उसी को मिला? यदि उसे नहीं मिला तो किसे मिला? जिसे मिला उसने उसका क्या किया? जिसे नहीं मिला, फिर उसने क्या किया?... ये बताएँ कि कितने तरह के मरीज़ होते हैं? जितनी तरह के होते हैं, क्या सबको ऑक्सिजन चाहिए? अगर चाहिए तो क्यों चाहिए? .. जिसे नहीं चाहिए उसे क्यों नहीं चाहिए?... ये ऑक्सिजन राउरकेला में ही क्यों बनता है? सरायकेला में क्यों नहीं बन सकता? टैंकर कितने हैं? और क्यों नहीं ख़रीद सकते? कहाँ मिलता है? आपने ऑक्सिजन लेने के लिए किसी को राउरकेला क्यों नहीं भेजा?... अच्छा आप बताएँ जी कि इन्हें राउरकेला क्यों बुला रहे हैं? ख़ुद लाकर क्यों नहीं देते? ऑक्सिजन के टैंकर की सुरक्षा के लिए सेना तैनात क्यों नहीं की जा सकती? 
तो आप कहना चाहते हैं कि अस्पतालों में बेड उपलब्ध है? किसके लिए है? हर मरीज अस्पताल जा सकता है? कहने का मतलब हम भी चाहें तो जा सकते हैं? ये ऑक्सिजन सिलिंडर किस धातु का बना होता है? अच्छा, लेकिन उसी धातु का क्यों बनता है? आप हमें सिलिंडर का मैन्युफ़ैक्चरिंग प्रॉसेस बता सकते हैं? कब तक प्रॉसेस का डिटेल्ज़ फ़ाइल करेंगे? नहीं, शाम सात बजे तो मुझे टीम फ़ाइनेलाइज करनी है, इसलिए प्रॉसेस कल समझ लेंगे।... एक ऑक्सिजन प्लांट लगाने में कितने दिन लगते हैं? बना बनाया नहीं लाया जा सकता? अच्छा, विदेशों में भी ऑक्सिजन ऐसे ही बनती है? क्या ऐसा संभव है कि जर्मनी में हवा की क्वालिटी अच्छी है तो वहाँ की ऑक्सिजन भी अच्छी हो? ये जो 490 टन आनी थी वह अब कहाँ है? उसकी सुरक्षा के पर्याप्त इंतज़ाम किया है आपने? ये क्रायोजेनिक सिलेंडर ही क्यों चाहिए? अच्छा इसे क्रायोजेनिक क्यों कहते हैं? ये ऑक्सिजन लिक्विड फ़ॉर्म में ही क्यों स्टोर किया जाता है? नहीं, क्या समस्या है स्टॉरेज की? ओके, अभी समझा सकते हैं? 
हाँ जी, मिस्टर मेहरा, कल हम कहाँ थे? अच्छा, ऑक्सिजन बनाने की विधि समझ रहे थे। देखिए, आपको पता होना चाहिए कि आम आदमी पर विकट संकट है।.... पर मिस्टर मेहरा, हमें बेवक़ूफ़ समझ रहे हैं आप? आपको लगता है कि हम ऑर्डर पास नहीं कर सकते? बता दें कि हम बहुत स्ट्रिक्ट हैं। चाहें तो आपका सारा अधिकार इन्हें दे सकते हैं। 
हाँ जी मिस्टर मेहता, आप यह बताएँ कि COVID को COVID ही क्यों कहते हैं? अगर और कुछ बोलेंगे तो क्या हो सकता है? अगर नाम कुछ और होता तो क्या फिर भी ये इतना ही घातक होता? यह वाइरस ही है, ये बात पहली बार किसे पता चली?... तो हमारा और उनका इन्फ़ेक्शन का डेफ़िनिशन एक ही है? ये स्ट्रेन क्या होता है? हर बार म्यूटेशन से नया स्ट्रेन ही निकलता है?... आप अपनी ज़िम्मेदारी से मुँह नहीं मोड़ सकते मिस्टर मेहता। 
ये रेमडेशिविर इंजेक्शन कब दिया जाता है? कौन देता है? डॉक्टर नहीं लिखे तो नहीं मिलता? यदि हम लेना चाहे तो?... आपको अंतिम बार कब मिला था? कितना है आपका कोटा? सरकार खुद क्यों नहीं बना सकती? आप सेक्रेटेरी से पूछकर बताइए।... ये तो कह रहे हैं आपको बावन हज़ार इंजेक्शन दिए गए हैं? आपने बताया आपको केवल ढाई हज़ार मिले हैं? बाक़ी कहाँ गए? आप दोनों आपस में बात करके फ़ाइनल फिगर बताएँ कि कितना मिला था? अच्छा क्या इस इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग भी संभव है? ये ब्लैक मार्केटिंग होती कैसे है? आपको इसका प्रॉसेस पता है? यदि पता है तो उसपर एक डिटेल्ड पेपर कब तक फ़ाइल कर सकते हैं? 
ह्वाट इज दिस मिस्टर मेहरा? आपकी सरकार ने होटेल में सौ रूम क्यों बुक किए? आपको क्या लगता है ऐसा करने से हम ख़ुश हो जाएँगे? आप सीधा बताएँ, अगर आपसे नहीं हो रहा है तो हम ये ज़िम्मेदारी इनको दे दें? ये विज्ञापन वाली बात सही है?... अच्छा कितना खर्च हुआ है विज्ञापन पर? क्यों खर्च हुआ? ये पैसा आता कहाँ से है? अच्छा, टैक्स पेयर से आता है? कितने टैक्स पेयर हैं पूरे राज्य में? सब इसी राज्य के नागरिक हैं? अच्छा, टैक्स के बदले उन्हें क्या मिलता है? 
उधर से प्रश्न आते जा रहे हैं। इधर से जवाब जाते जा रहे हैं; 
जैसा मी लॉर्ड उचित समझें। हें हें हें। उसका मुझे नहीं पता। मैं सेक्रेटेरी से पूछकर बताता हूँ। ये सच है कि हमारी तरफ़ से ऑक्सिजन लेने कोई नहीं पहुँचा। राउरकेला दूर है मी लॉर्ड। मी लॉर्ड अगर टैंकर की सुरक्षा बढ़वा देते तो .. ये मिस्टर मेहता झूठ बोल रहे हैं मी लॉर्ड। मेरे पास ऐसी जानकारी नहीं है। कुल एक सौ आठ टन ऑक्सिजन आना था लेकिन अट्ठासी टन आया। .. टैंकर पर बड़ा ख़तरा है मी लॉर्ड...हिरमाना हमारा ऑक्सिजन रोक रहा है मी लॉर्ड.. देखिए स्टोर तो लिक्विड फ़ॉर्म में ही होता है लेकिन लीटर में इक्स्प्रेस नहीं किया जाता... जी जी टन में ही इक्स्प्रेस किया जाता है। ..लाने ले जाने के लिए टैंकर चाहिए मी लॉर्ड.. ऑक्सिजन और टैंकर दोनों चाहिए मी लॉर्ड! 
इस बात की जानकारी नहीं है मी लॉर्ड... ये अफ़वाह है मी लॉर्ड। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर ख़ुद चिंतित होते हैं मी लॉर्ड। चिंतित होने की ज़िम्मेदारी उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को नहीं सौंपी है मी लॉर्ड। मैं सच कह रहा हूँ .. जी जी, वे खुद चिंतित होते हैं .. जी इसका सबसे बड़ा प्रूफ़ ये है मी लॉर्ड कि अभी तक आए सभी विज्ञापनों में मुख्यमंत्री ही दिखाई देते हैं मी लॉर्ड। हें हें हें जैसा मी लॉर्ड कहें। नहीं मी लॉर्ड, ये अफ़वाह गोदी मीडिया ने आइ टी सेल के साथ मिल कर उड़ाई है मी लॉर्ड। ये सच नहीं है कि विज्ञापनों पर छ सौ पचास करोड़ खर्च हुए हैं मी लॉर्ड। मैंने सेक्रेटेरी से डेटा माँगा तो पता चला कि छ सौ अढ़तालीस करोड़ ही खर्च हुए हैं। हल्ला क्लिनिक वर्ल्ड क्लास है मी लॉर्ड लेकिन उसमें कोविड का इलाज नहीं हो सकता .. जी जी बाक़ी बीमारियों का ईलाज हो सकता है... हमने वादा नहीं किया लेकिन कोशिश की थी मी लॉर्ड। 
ये इंजेक्शन के डेटा में जो अंतर है उसे हम जल्द ही रीकंसाइल कर लेंगे मी लॉर्ड। .. मैं तो कहता हूँ मी लॉर्ड कि रेमडेसिवीर के इक्स्पॉर्ट पर रोक लगे मी लॉर्ड .. हें हें हें जैसा मी लॉर्ड कहें। नहीं वो होटेल में रूम कैसे बुक हुआ उसका पता मैं लगाता हूँ मी लॉर्ड। नहीं मी लॉर्ड, सी एम साहब चिंतित थे, हैं और रहेंगे मी लॉर्ड। हम राज्य के एक एक नागरिक को बचाने के लिए वचनबद्ध हैं मी लॉर्ड.. जी जी ऑक्सिजन देकर बचाने के लिए .. 
इधर नागरिक लाइव प्रोसीडिंग बाँच कर ख़ुश है.. यह सोचते हुए कि उसकी सुनवाई हो रही है!

Friday, June 30, 2017

कुरुक्षेत्र में श्रीकृष्ण और अर्जुन





कुरुक्षेत्र में दोनों ओर की सेनाओं के बीच अर्जुन का रथ खड़ा था। उनके सारथी श्रीकृष्ण उन्हें उपदेश दे रहे थे। महापुरुष, योद्धा, अश्व, गज, गदा, धनुष, कृपाण इत्यादि युद्ध आरंभ होने की प्रतीक्षा में बोर हो रहे थे।प्रतीक्षा करते-करते अर्जुन के गांडीव को भी झपकी आ गई थी।

उधर केशव बोले जा रहे थे; ....हे पार्थ, प्रश्न अपने-पराये का नहीं अपितु प्रश्न धर्म और अधर्म का है। तुम किनके लिए चिंतित हो? वे जो हमेशा अधर्म की राह पर चलते रहे? ....और हे पार्थ, यह कदापि न सोचो कि तुम उन्हें मारोगे। ...स्मरण रहे कि आत्मा न जन्म लेती है और न ही मरती है। आत्मा अजर-अमर है...जो हो रहा है वह अच्छा हो रहा है, जो हो चुका है वह भी अच्छा था और जो होगा वह भी अच्छा ही होगा। ....हे पार्थ, अपने मन पर विजय प्राप्त करो। ...कर्म करो पार्थ और फल की चिंता न करो। ...जीवन वर्तमान में है। ...परिवर्तन इस संसार का नियम है कौन्तेय, परिवर्तन और मृत्यु ही सत्य है...हे पार्थ भय और चिंता से मुक्ति पाने का एक मात्र साधन है धर्ममार्ग पर चलना। ...इसलिए हे पार्थ, आगे बढ़ो और धर्म का पालन करो। ...

बोलते-बोलते केशव रुक गए। उन्हें लगा कि वे पर्याप्त बोल चुके हैं और अर्जुन अब युद्ध आरंभ कर देंगे।

अर्जुन की ओर से कोई प्रतिक्रिया न होने पर केशव ने पूछा; पार्थ, क्या अब भी तुम दुविधाओं से घिरे हो? क्या तुम्हारे मन में अब भी कोई प्रश्न है?

अर्जुन ने सिर हिलाते हुए कहा; हे केशव मेरे मन में अब भी एक प्रश्न है।

केशव ने पूछा; कौन सा प्रश्न?

अर्जुन बोले; हे केशव प्रश्न यह है कि, आज अगर महात्मा गांधी होते तो वे क्या कहते?

केशव माथे पर हाथ रखकर बैठ गए।

Wednesday, October 12, 2016

हुआ सर्जिकल...







हुआ सर्जिकल
मिला हमें बल
भौंके नेता
उन्हें नहीं कल
सैनिक मरता
रक्षा करता
पर लीडर जो
पॉकेट भरता
जब भी बोले
शबद न तोले
राष्ट्र-वायु में
बस विष घोले
मुँह की बोली
गन की गोली
जिसने दाग़ी
उसकी हो ली
उधर है पप्पू
इधर है लप्पू
रेत का दरिया
चलता चप्पू
कथन नाव है
इक चुनाव है
उठता क़ुरता
दिखा ताव है
हरिशचंद्र है
बुद्धि मंद है
इक मीरजाफ़र
इक जयचंद है
टीवी चैनल
बड़का पैनल
बातें बहती
खुला ज्ञान-नल
इनका दावा
उनका लावा
एक दारा तो
एक रंधावा
अजब चाल है
बस बवाल है
सच्चाई की
खिंचे खाल है
रक्त-दलाली
उसने पा ली
मुझे चांस कब?
कॉफ़र ख़ाली
फ़िल्म धुरी है
ओम पुरी है
उधर फ़वाद तो
इधर उरी है
पाक़ी ऐक्टर
नारी या नर
साथी सच के
अल्ला से डर
हे नर जोहर
अति तो न कर
यह भारत ही
है तेरा घर
बीइंग ह्यूमन
खोल गया मन
किधर खड़ा है
देखें जन-जन
बी सी सी आइ
बिग ऐपल पाइ
मेरा हिस्सा;
मुझको दे भाइ
तुम हो फेकर
मैं हूँ चेकर
मैं जज भी हूँ
मैं ही क्रिकेटर
पुस्तक बल है
भारी छल है
डूबी औरत
गहरा जल है
सारे हैं नत
सबकुछ शरियत
जेंडर वाइस
मर्द हैं एकमत
धर्म बड़ा है
शेख अड़ा है
जो लोटा है
कहे; घड़ा है
यही जाप सब
घुले ताप सब
मिटे धरा के
आज पाप सब
इस नौ राता
दुर्गा माता
जोड़ें सबका
बुद्धि से नाता