Show me an example

Thursday, January 31, 2008

बुक फेयर नहीं हुआ तो क्या, उसका उद्घाटन तो हो ही सकता है




भगवान ने इंसान को बनाया और इंसान ने सरकार. भगवान को इंसान बनाने के लिए नोबल प्राईज मिल सकता है तो इंसान को सरकार बनाने के लिए. ऐसा कहने के पीछे मेरे पास कारण हैं. ये बात दावे के साथ कही जा सकती है कि इंसान द्वारा किए गए आविष्कारों में सबसे बड़ा और गूढ़ आविष्कार है इंसान का सरकार बनाना. मैं वैसे भी सरकार को नज़दीक से देखता हूँ. मेरा आफिस कलकत्ते में सरकार के आफिस मतलब राईटर्स बिल्डिंग के पास ही है. लिहाजा सड़क पर आते-जाते सरकार के दर्शन हो ही जाते हैं. अगर किसी दिन नहीं दर्शन नहीं होता तो सरकार घर में रखे टेलीविजन सेट पर अपना दर्शन देकर धन्य कर जाती है.

सरकार के बारे में ऐसे विचार कल एक अखबार में एक समाचार पढ़कर आए. समाचार में लिखा था; 'इस साल कलकत्ते में बुक फेयर का उद्घाटन तो होगा लेकिन बुक फेयर नहीं होगा.' सरकार के लिए जरूरी है की बुक फेयर का उद्घाटन हो. बुक फेयर नहीं होने से भी काम चल जायेगा. ये उद्घाटन का सरकारी काम होना बहुत जरूरी है. हमारे शहर में सरकार ने कई ऐसे फ्लाई ओवर और पुल का उद्घाटन कर डाला है जो अभी तक बन रहे हैं. खैर, बात हो रही थी बुक फेयर की.

कलकत्ते में हर साल एक बुक फेयर होता है. साल १९७६ से होता रहा है. लेकिन पिछले कई सालों से किताबों का ये मेला किताबी मेला बनकर रह गया है. पिछले चार सालों से सरकार जनवरी महीने में केवल बुक फेयर और उससे संबंधित विवाद पर काम करती है. बाकी के सरकारी काम लगभग बंद रहते हैं. और फिर सरकार ही क्यों, पिछले चार सालों से बुक फेयर के मौसम में सरकार, कोर्ट, आर्मी, अखबार, जनता, नेता, पब्लिशर्स गिल्ड, सबके सब एक ही मुद्दे को ओढ़ते-बिछाते हैं, बुक फेयर. यह बुक फेयर पहले जिस स्थान पर होता था, वहाँ का मालिकाना आर्मी के पास है. पहले आर्मी को बुक फेयर के आयोजन पर कोई आपत्ति नहीं थी. लेकिन शायद हाल के वर्षों में आर्मी कुछ ज्यादा मुस्तैद और चुस्त-दुरुस्त हो गई है. आर्मी के मुस्तैद होने का नतीजा यह है कि सरकार बुक फेयर नहीं करवा पा रही.

आर्मी का मानना है कि बुक फेयर की वजह से उसका मैदान दूषित हो जाता है. सरकार का मानना है कि किताबों से वातावरण दूषित नहीं होता. आर्मी अपनी बात लेकर कोर्ट में चली जाती है. लिहाजा सरकार को भी कोर्ट में जाना पड़ता है. सरकार कोर्ट में हार जाती है क्योंकि आर्मी का वकील साबित कर देता है कि बुक फेयर की वजह से वातावरण दूषित हो जाता है. मजे की बात ये है कि जो मैदान बुक फेयर की वजह से दूषित होता है, वही मैदान राजनैतिक पार्टियों की रैलियों के आयोजन के बावजूद दूषित नहीं होता. ऐसी रैलियों में बीस लाख लोग आते हैं जो माछ-भात से लेकर चना-चबैना और प्लास्टिक की थैलियाँ इसी मैदान में विसर्जन कर जाते हैं. कहते हैं और ऐसी मान्यता भी है कि सरकारी चीजें सस्ती होती हैं. लिहाजा सरकार का वकील भी सस्ता ही होगा नहीं तो अदालत को बताता कि; 'योर आनर, अगर बीस लाख लोगों की रैली के बावजूद मैदान साफ-सुथरा रहता है तो बुक फेयर की वजह से दूषित कैसे हो सकता है.'

इस बार बुक फेयर का आयोजन सरकार ने एक और मैदान में करवाने की बात की. तैयारी हो चुकी थी. लेकिन जब उद्घाटन की बात आई, तो और लोग सामने आए और बताया कि ये मैदान भी दूषित हो जायेगा. फिर मामला उसी कोर्ट में पहुँच गया. कोर्ट ने भी बताया कि बुक फेयर की वजह से मैदान दूषित हो जायेगा. साल में एक बार आयोजित किया जानेवाला बुक फेयर, इस बार नहीं हो सकेगा. मजे की बात ये है कि आर्मी के मैदान में राजनैतिक रैलियां होती हैं तो इस मैदान में भी दुर्गा पूजा का पंडाल लगता है. सर्कस लगता है. लेकिन इन आयोजनों से मैदान दूषित नहीं होता. हर साल कलकत्ता बुक फेयर का विषय किसी अन्य देश को बनाया जाता है. कभी वियतनाम, कभी क्यूबा, कभी पोलैंड. मेरा सुझाव ये है कि जिस देश को विषय के रूप में चुना जाय, वहीं जाकर कलकत्ता बुक फेयर का आयोजन भी कर लिया जाय तो ठीक रहेगा.

सड़कों पर प्रदूषण, पार्कों में प्रदूषण, तालाबों में तैरती प्लास्टिक की थैलियाँ, लगभग सब जगह प्रदूषण बिखरा पड़ा है. उसकी फिक्र न तो कोर्ट को है न ही पर्यावरण मंत्रालय को. न ही आम आदमी को और न ही सरकार को. लेकिन बुक फेयर से होनेवाले प्रदूषण से सबको ख़तरा नज़र आता है. लेकिन सरकार की हिम्मत की भी दाद देनी पड़ेगी. उसकी इस सोच की, कि बुक फेयर नहीं हुआ तो क्या, उसका उद्घाटन तो हो ही सकता है.

Wednesday, January 30, 2008

काकेश जी, ये आपके (?) लिए





आज बाल किशन के ब्लॉग पर इराक की मशहूर कवियित्री नजीक अल-मलाईका की एक बहुत सुंदर कविता पढने को मिली. बाल किशन ने अंतराष्ट्रीय कवियों और कवियित्रियों की कवितायें काफी पढ़ी हैं. मुझे कविता बहुत पसंद आई. लेकिन इस पोस्ट पर काकेश जी का कमेंट है कि बाल किशन कभी दिनकर जी और पन्त जी की कवितायें भी पब्लिश करें. बाल किशन तो भविष्य में पब्लिश करेंगे ही. लेकिन काकेश जी की इस बात पर मैं दिनकर जी के दो छंद पब्लिश कर रहा हूँ, जो कुरुक्षेत्र से लिये गये हैं.


युद्ध क्यों शुरू हुआ, इसके बारे में युधिष्ठिर कहते हैं:
"किंतु हाय, जिस दिन बोया गया युद्ध-बीज ,
साथ मेरा दिया नहीं मेरे दिव्य-ज्ञान ने;
पलट दी मति मेरी भीम की गदा ने और
पार्थ के शरासन ने, अपनी कृपाण ने;
और जब अर्जुन को मोह हुआ रण बीच
बुझती शिखा में दिया घृत भगवान ने;
सबकी सुबुद्धि पितामह, हाय, मारी गई
सबको विनष्ट किया एक अभिमान ने।

"कृष्ण कहते हैं, युद्ध अनघ है, किंतु, मेरे
प्राण जलते हैं पल-पल परिताप से;
लगता मुझे है, क्यों मनुष्य बच पाता नहीं
दह्यमान इस पुराचीन अभिशाप से!
और महाभारत की बात क्या? गिराए गए
जहाँ छल-छद्म से वरेण्य वीर आपसे,
अभिमन्यु वध औ’ सुयोधन का वध हाय,
हममे बचा है यहाँ कौन किस पाप से?

Monday, January 28, 2008

तुम मुझे पैसे दो, मैं तुम्हें नेता दूँगा.





मीडिया समूह बड़ा दुखी था. उसे दुःख इस बात का था कि करोड़ों भारतीयों ने हजारों बार वोट दिया लेकिन एक ऐसा नेता नहीं चुन पाये, जो भारत को 'लीड' कर सके. अभी तक जितने नेता चुने गए, ज्यादातर ने भारत को लीद ही किया, 'लीड' नहीं कर सके. बस, फिर क्या था. इस मीडिया समूह ने जनता को बताया कि; "तुम सब अंधे हो. नेता तुम्हारे बीच है और तुमने देखा नहीं. तुम्हें उसकी पहचान नहीं है. तुमसे कुछ नहीं होगा. अब नेता चुनने का काम तुम हमपर छोड़ दो और देखो कि हम बिना वोट दिए कितना बढ़िया नेता चुनते हैं."

जनता को फटकार लगाना नेता चुनने की पहली सीढ़ी थी. उसके बाद चुनाव प्रचार शुरू हुआ. गुलज़ार साहब से गीत लिखवाया गया. उन्होंने लिखा; "भारत उम्मीद से है." अमिताभ बच्चन साहब को प्रचार के लिए बुलाया गया. वे चुनाव प्रचार में उतरे. बाद में शाहरुख़ खान और जूनियर बच्चन भी उतरे. सब ने चुनाव प्रचार शुरू किया. करते गए. 'नेताओं' की तलाश हुई. जनता से कहा गया कि जिन्हें नेता बनना हो, अपना हाथ ऊपर करें टाइप से. बहुत सारे हाथ ऊपर किए गए. जनता आशा लगाए मीडिया समूह का मुंह ताक रही थी. भारत का भविष्य अब मीडिया समूह के हाथों में है.

लेकिन ये क्या? जिस नेता को चुनने का विश्वास इस समूह ने दिया था, उसी को चुनने के लिए ये लोग वापस जनता के पास हाजिर हैं. कहते हैं; "टीवी प्रोग्राम देखो, वोट दो, तब जाकर एक अदद नेता की प्राप्ति कर सकोगे." मतलब नेता चुनने के लिए वोट तो देना ही पडेगा. जनता लग चुकी है वोट देने में. पैसा खर्च कर रही है, इस आशा के साथ कि 'एक दिन ऐसा नेता मिलेगा, जो हमें वैतरणी पार कर के ही दम लेगा.' टीवी प्रोग्राम में दिखाने के लिए सवाल पूछने का सांस्कृतिक कार्यक्रम भी है; "अच्छा भैया ये बताओ कि मुद्रास्फीति की वजह से अर्थव्यवस्था को क्या नुकसान हो सकता है?" जवाब मिल गया. दूसरा सवाल; "अच्छा ये बताईये, विदर्भ में किसानों की समस्या कैसे सुलझाई जा सकती है?" बहुत बढ़िया जवाब. आपको इस जवाब के मैं पांच नंबर दूँगा.

अरे तारनहार, इसी तरह के सवाल-जवाब करके नेता चुनना था तो हमारे अफसर क्या कर रहे हैं? उनसे काबिल कौन है? जो नेता जज की कुर्सी पर बैठे भारत को लीड करने वाले इन नेताओं का चुनाव कर रहे हैं, वे अपने अफसरों से ये सारी समस्याएं सुलझाने के लिए क्यों नहीं कहते? और सिनेमा और एनजीओ के नेताओं के गले ये बात क्यों नहीं उतरती कि वे भी तो दिन भर आज के नेताओं के सम्पर्क में हैं, वे क्यों नहीं उन्हें रास्ता दिखाते. इस तरह से नेता चुनने की नौबत ही नहीं आती.

अब जनता थोडी निराश टाइप दिख रही है. जनता के बीच से एक जन ने कहा; "ये लोग भी पैसा कमाने में लग गए हैं. बताओ, ये भी कोई बात है. कहते हैं, एसएम्एस कर के वोट दो, तब जाकर एक नेता देंगे हम तुम्हें. अरे यही वोटिंग करवानी थी तो हम साल दर साल वोट कर ही रहे थे. कभी तो ऐसा होता कि हमारा वोट एक अच्छा नेता खोज लेता. ऊपर से इन नेताओं को चुनने के लिए जिन्हें बैठा रखा है वे ख़ुद भी नेता हैं. कुछ तो राजनीति में नेता हैं. जो राजनीति में नेता नहीं हैं, वो एक्टिंग के नेता हैं, सिनेमा के नेता हैं. कुछ की नेतागीरी 'एनजीओ समाज' में चलती है. अरे भइया नेता दूसरे नेता को चुने, इससे अच्छा तो यही था कि जनता ही नेता चुन लेती."

जनता शायद महसूस कर रही है कि अब नारा बदल चुका है. अब नारा है; "तुम मुझे पैसे दो, मैं तुम्हें नेता दूँगा."

Saturday, January 26, 2008

ज्ञान भैया, आपके लिए मेरे पास कुछ सुझाव हैं




हमारे ज्ञान भैया भी गजब हैं. पिछले तीस सालों से हमारी भाभी से चाय बनवा कर पीते हैं और उन्हें ये पता नहीं कि उनकी इस हरकत की वजह से दुनियाँ भर की औरतों के साथ अत्याचार हो रहा है. मजे की बात ये कि अपना अपराध कुबूल भी कर रहे हैं. वो भी ऐसी पोस्ट में जो सबकी समझ में आए. अब भैया जब पोस्ट सबकी समझ में आएगी तो उसपर टिप्पणियां भी आएँगी ही. और जब आएँगी तो बचना मुश्किल होगा ही. वैसे भी इस केस में केवल टिपण्णी से काम चलना मुश्किल था लिहाजा लोगों को पोस्ट तक लिखनी पडी.

मैंने कई बार भैया से कहा है कि ऐसी पोस्ट लिखते ही क्यों हैं, जो सबकी समझ में आ जाए. ऊपर से ऐसे मुद्दों पर लिखते हैं जिनके बारे में सब जानते हैं. अरे भैया, मैं कहता हूँ कि आपको कलकत्ते में होने वाली मीटिंग की फोटो लगाकर पोस्ट लिखनी ही क्यों? और फिर आप किसी समस्या पर डिस्कशन करना ही चाहते हैं तो आठ-दस साल और इंतजार कीजिये. रिटायर होने के बाद ये सारी समस्याओं की लिस्ट लेकर कहीं कोलोम्बिया, ब्राजील, चीन, उज़बेकिस्तान जैसी जगह चले जाईयेगा और वहाँ के लोगों के साथ भारत की आजकी समस्याओं को डिस्कस कर लीजियेगा. कौन रोकता है आपको. डिस्कशन करने से जो निष्कर्ष निकलेगा, उसे पोस्ट दर पोस्ट ठेलते रहियेगा. चाहे वहीं से या फिर भारत आने के बाद. भारत आ गए तो मेरी कोलोम्बिया यात्रा-भाग ५२७ तक ठेलते रहें. अज़दक जी से कुछ सीखिए. देखा नहीं आपने, चीन के एक नदी के किनारे बसे होनसीसी गांव में बैठकर वहाँ की एक बुढ़िया हूँचीची के साथ बिहार के चम्पारण जिले की समस्याएं डिस्कस कर आए. हाल ही में मुम्बई में बैठे-बैठे रूस से आए ब्रजनेव के पोते कसेल्निकोव के साथ भारत की पानी की समस्या डिस्कस किया है उन्होंने. ऐसा कुछ कीजिये.

नेरुदा आपकी समझ में नहीं आते फिर भी उनके बारे में लिखिए, बोलिए. उनकी कवितायें ठेलिए पोस्ट दर पोस्ट. आप रहते थे इलाहबाद के शुकुलपुर गाँव में लेकिन सबको ये बताईये कि आपने बचपन में ही इटली के महान फिल्मकार की १९५० में बनाईं गई फ़िल्म देख ली थी और इस फ़िल्म पर आप पीएचडी कर चुके हैं. आप लोगों को ये बताईये कि जॉर्ज बर्नाड शा के नाटक मैन एंड द सुपरमैन और आर्म्स एंड द मैन की सबसे बढ़िया व्याख्या आपने की है. किसी माडर्न आर्ट के 'पेंटर' की बनाईं गई 'जलेबी' को अपनी पोस्ट पर छापिये और लोगों को ये बताईये कि ये पेंटिंग आपको इस आर्टिस्ट ने भेंट में दी थी. पूरे साल भर पोस्ट में ऐसी भाषा लिखिए जो पाठक तो क्या पाठक की माँ (बाप इसलिए नहीं लिख रहा कि इसको लेकर भी बवाल न खडा हो जाए) की समझ में भी न आए. लेकिन जब किसी को गाली देना हो तो ऐसी भाषा लिखिए तो सबकी समझ में आए.

और आप हैं कि अपने घर और अपनी सच्ची सोच के बारे में पोस्ट ठेल रहे हैं. वो भी ऐसी जो सबकी समझ में आए. थोड़ा मेहनत करके एक 'डुयल पर्सनालिटी' तैयार नहीं कर सकते? माफ़ कीजियेगा, अगर ऐसा नहीं कर सकते तो फिर आप असली ब्लागिंग के लायक कतई नहीं हैं. और छोड़ दीजिये ये ब्लागिंग वागिंग. और हाँ, जो भी लिखिए बहुत सोच-समझ के लिखिए. हो सके तो लिखिए ही मत. क्योंकि आपकी लिखी हुई पोस्ट की एक भी लाइन लोगों को नागवार गुज़री तो भारत का सत्यानाश हो जायेगा. आपको सोचना चाहिए कि आपका लिखा हुआ शाश्वत है. आनेवाले समय में ये कोर्स की किताबों में पढाया जायेगा और इसे छात्रों ने पढ़ा तो भारत का भविष्य चौपट हो जायेगा.

और फिर केवल अज़दक जी से ही क्यों, प्रत्यक्षा जी से भी कुछ सीखिए. अभय भाई ने अपने ब्लॉग पर इन दोनों को शब्द धनी बताया है. देखा नहीं कि प्रत्यक्षा जी मिसेज मजुमदार के बारे में पूरी की पोस्ट लिख डालती हैं. लेकिन क्या लिखती हैं वह मिसेज मजुमदार की माँ की भी समझ में नहीं आएगा. लेकिन अगर आपकी पोस्ट पर आपको धिक्कारने की बात आती है तो ऐसी भाषा लिखती हैं जो गली का कुत्ता भी पढे तो समझ जाए. प्रमोद जी ने अपनी ही पोस्ट में उन्हें हरियाणा में औरतों के साथ होनेवाले जुल्म को लेकर कुछ कहा है. मुझे भी समझ में नहीं आया कि वे कभी वहाँ की औरतों के साथ हो रहे अत्याचार के बारे में क्यों नहीं लिखती? खैर, ये उनका अपना मामला है.

इसलिए भैया, मेरा तो यही कहना है कि आप ख़ुद को बदलिए. ट्राई कीजिये कि ऐसा कुछ लिखिए जो लोगों की समझ में न आए. कम से कम गालियाँ खाने की नौबत तो नहीं आएगी.

Friday, January 25, 2008

बॉलर ने रतीराम का पान खाया और बैट्समैन बोल्ड हो गया




रतीराम चौरसिया, अरे वही चौरसिया पानवाले, कल बीसीसीआई दफ्तर के बाहर दिखाई दे गए. कभी इधर जाते, कभी उधर. जो सामने मिल जाता, उसी को पकड़ लेते. कुछ बात करते और फिर चेहरा लटक जाता. मुझसे टकरा गए. मैंने पूछा; "आप और यहाँ? कैसे आना हुआ?"

बोले; "टीम खरीदने आए रहे. पर ई लोग कह रहा है सब बिक गवा."

मैंने कहा; "आप भी टीम खरीद रहे हैं. लेकिन अब तक तो सारी टीमें बिक गईं. अब तो कुछ नहीं बचा."

बोले; "हाँ. एही बात का तो रोना है. हमरे आने से पहिले ही ई लोग सब बेंच-बांच कर खतम कर दिया."

मैंने कहा; "अब तो कुछ कर भी नहीं सकते. लेकिन आप क्रिकेट के धंधे में कब से कूद गए? पान का धंधा छोड़ दिए क्या?"

बोले; "अरे भइया पान का धंधा बढ़िया चल रहा है एही वास्ते क्रिकेट के धंधे में आए हैं. सभी खरीद रहा था. हम सोचे, हम भी खरीद लें. अरे जब एअरलाइन वाला से लेकर कपड़ा वाला और दारू वाला से लेकर फिलिम वाला खरीद रहा है, तो हम भी तो टिराई मार ही सकते हैं. पान बेंचते हैं तो का हुआ, करते तो धंधा ही हैं."

मैंने सोचा ठीक ही तो कह रहे हैं. सब अपना-अपना बिजनेस छोड़कर क्रिकेट के बिजनेस में जा रहे हैं तो रतीराम जी ने कौन सा पाप किया है. वे भी जा सकते हैं. मैंने कहा;" लेकिन जिन लोगों ने टीम खरीदी हैं, कह रहे थे कि उनकी वजह से क्रिकेट का भला होगा. आप भी भला करेंगे क्या इस क्रिकेट का?"

रतीराम ने मुस्कुराते हुए कहा; "कौन भला करेगा क्रिकेट का? ई लोग जो टीम खरीदा है? इन लोगों को क्रिकेट का बारे में का पता है? जो जो लोग खरीदा है, उसमें कौन क्रिकेट खिलाड़ी था, बोलिए तो."

मैंने सोचा सही ही तो कह रहे हैं. लेकिन मन में ये बात भी आई कि जिन लोगों ने टीमें खरीदी हैं, वे लोग तो यही कह रहे थे कि क्रिकेट का भला करेंगे. यही सोचते हुए मैंने रतीराम से पूछा; "तो आपको क्या लगता है. जिन लोगों ने टीमें खरीदी हैं, उनका अपना कोई स्वार्थ है?"

बोले; "और नहीं तो का. आपको का लगता है, हमें कोई टीम मिल जाती तो का हम क्रिकेट का भला करते?"

मैंने पूछा; "तो आप क्या करते?"

बोले; "प्रचार करवाते. जो ई लोग भी करवाएगा. अन्तर एही है कि ई लोग दारू, फिलिम, कपड़ा और गैस का प्रचार करवाता, हम पान का करवाते."

उनकी बात सुनकर हंसी आ गई. मैंने कहा;" क्या बात कर रहे हैं. पान का प्रचार करवाते. ये भला क्यों?

आपको नहीं लगता कि क्रिकेट के खेल में पान का प्रचार कुछ भद्दा मजाक नहीं लगेगा?"

रतीराम जी ने मेरी बात सुनकर मेरे ऊपर ऐसी दृष्टि डाली जैसे दुनियाँ में मुझसे बड़ा 'खतम' आदमी और कोई नहीं. मुझे देखते हुए बोले; "आप रेडियो नहीं न सुनते हैं. आ सुनते तो अईसा नहीं कहते."

मैंने कहा; "आप ठीक कह रहे हैं. मैं रेडियो नहीं सुनता. वैसे इस रेडियो में ऐसा क्या है?"

बोले; "रेडियो में क्रिकेट का कमेंटरी आता है. जब भी चौका लगता है, रेडियो से आवाज आता है 'और ये बीएसएनएल चौका'. सुनकर बड़ा हंसी आता है. एक बार सुनकर लगता है जैसे ई बीएसएनएल ने ही ई चौका लगवाया है. ई कंपनी नहीं होती त चौका नहीं लगता."

मैंने सोचा अगर ऐसा है तो ठीक ही तो कह रहे हैं. यही सोचते हुए मैंने उनसे पूछा; "अगर आपको टीम मिल जाती तो क्या आप अपनी पान दुकान का प्रचार करवाते खिलाडियों से?"

बोले; "काहे नहीं. जरूर करवाते. जब पैसा लगाकर टीम खरीदेंगे तो प्रचार भी करवाएंगे. और ओइसे भी जो लोग टीम सब को लिया है, वो भी तो एही कराएगा सब. काल को देखियेगा, ई खिलाड़ी सब दारू से लेकर कपड़ा तक बेंचते हुए दिखेगा. फिलिम का प्रचार करेगा, सो अलग."

मैंने पूछा; "लेकिन अब तो आपको टीम मिलेगी नहीं. सब तो बड़ा-बड़ा लोग खरीद लिया. कलकत्ते से लेकर मुम्बई और बंगलूरु तक की टीमें बिक चुकी हैं."

बोले; "असल में सुने रहे कि आजकल छोटा-छोटा शहर और कस्बा से खिलाड़ी आ रहा है सब. मुम्बई और दिल्ली वगैरह से कम खिलाड़ी आता है. एही वास्ते हम बीसीसीआई को सुझाव दिए हैं कि पटना, इलाहाबाद, कानपुर, रायबरेली अ चाहे भटिंडा का भी टीम बनाये जिससे हम जैसे छोटे धंधेबाजों को क्रिकेट का धंधा करने का मौका मिले."

इतना कह कर वे बीसीसीआई के एक पदाधिकारी की पीछे-पीछे चले गए.

उनकी बात सुनकर हम आनेवाले समय में ऐसे विज्ञापन के लिए तैयार हो चुके हैं जिसमें दिखाया जायेगा कि बॉलर को विकेट नहीं मिल रहा है. हारकर वह रतीराम की दुकान का बनारसी पान खाकर बोलिंग करता है और सामने वाले बैट्समैन को बोल्ड कर देता है.

Thursday, January 24, 2008

गनीमत है मछलियों और बकरों को बर्ड फ्लू नहीं होता




पश्चिम बंगाल में मौसम इस कदर ख़राब हुआ कि मुर्गियां भी फ्लू का शिकार हो गईं. राज्य सरकार परेशान है. थोड़ा इस फ्लू की वजह से और थोड़ा केन्द्र सरकार के मंत्रियों की वजह से जो आए दिन कह रहे हैं कि 'राज्य सरकार ने ठीक समय पर काम नहीं किया.' जनता ने चिकेन खाना पहले ही छोड़ दिया था लेकिन अब तो नेता भी मुर्गियों से डरने लग गए हैं. कैसे डरपोक नेता हैं जो इंसानों से नहीं डरते लेकिन मुर्गियों से डरते हैं. शादी के मेन्यू में अब मछली और बकरे कट रहे हैं. कारण केवल इतना है कि इन्हें बर्ड फ्लू नहीं होता. गनीमत है कि मछलियों और बकरों को बर्ड फ्लू नहीं होता नहीं तो कितने लोग भूखे रह जाते और न जाने कितनी शादियाँ रुक जातीं.

पहले राज्य सरकार के कर्मचारियों ने मुर्गियों को मारना शुरू किया. बाद में पता चला कि ये कर्मचारी टाइम पर काम नहीं कर पा रहे. लिहाजा केन्द्र सरकार ने अपने एक हज़ार कर्मचारी भेज दिए हैं जो मुर्गियों को मारेंगे. प्लान के मुताबिक कई लाख मुर्गियों को मारने का इंतजाम कर लिया गया है. वैसे आज ही वामपंथी नेता श्री बिमान बोस ने बताया है कि उन्होंने अपने कैडरों को भी इस काम पर लगा दिया है. ठीक ही किया. वैसे भी वामपंथियों को अपने कैडरों पर ज्यादा विश्वास रहता है. लोगों को भी पता है कि कैडरों से आजतक कोई नहीं बच सका तो मुर्गियों की क्या औकात. सीन पर कैडरों के आ जाने से केन्द्र सरकार भी आश्वस्त हो गई है. उसे भी विश्वास हो गया है कि अब मुर्गियां नहीं बचेंगी और उनका काम-तमाम निश्चित है.

राज्य सरकार द्वारा अपने कैडरों को लगाने के बाद मुर्गियों में हलचल मच गई. आख़िर पश्चिम बंगाल की मुर्गियां हैं. मीटिंग और भाषण का महत्व उन्हें भली-भाँति पता है. लिहाजा उन्होंने 'मुर्गी रुदन मंच' बनाया और ब्रिगेड परेड में एक रैली कर डाली. रैली में एक वरिष्ठ मुर्गी को नेता चुन लिया गया. उसे मुर्गियों को संबोधित करने के लिए स्टेज पर बुलाया गया. स्टेज पर आते ही उसने भाषण शुरू किया;

बहनों और भाईयों,

हम बहुत दुखी हैं. वैसे हम दुखी तो हमेशा ही रहते हैं लेकिन इस बार कुछ ज्यादा ही दुखी हैं. कारण केवल इतना है कि ये इंसान पहले हमें खाने के लिए काटता था लेकिन आज केवल मारने के लिए काट रहा है. ऐसी बात नहीं है कि खाने के लिए कटने पर हमें कोई खुशी होती थी. हमें दुःख केवल इस बात का है कि इंसानों को जब फ्लू हो जाता है तो वह दवाई वगैरह खाकर ठीक हो जाता है ताकि हमें खा सके. लेकिन जब हमें फ्लू हो जाता है तो हमें मार डालता है. यही इंसान उठते-बैठते ये बताना नहीं भूलता कि अब इसने कैंसर का इलाज भी खोज लिया है. मेरा कहना यही है कि अपने लिए कैंसर का इलाज खोजा तो हमारे लिए कम से कम फ्लू का इलाज तो खोज लेता. लेकिन नहीं, हमारे लिए क्यों खोजेगा. फ्लू से तो अच्छा होता कि हमें कैंसर ही हो जाता. कम से कम हम अपनी मौत तो मरते. लेकिन अब हम क्या करें अगर हमारे फ्लू का इसके पास केवल एक ही इलाज है, हमारी मौत.

अजीब होता है ये इंसान भी. केवल ठूसना जानता है. जब तक हम जिंदा हैं तो हमें दड़बे में ठूस कर रखता है. और जब हमें मार देता है तो मुहँ में ठूसता है. केवल खाने में बिजी रहता है. घूस और गाली खाने से समय मिलता है तो हमें खाता है. ख़ुद तो आराम से बड़ी जगह में रहता है और हमें छोटी सी जगह में ठूस देता है. अब हमें फ्लू हो ही गया है तो मरना तो हमें पड़ेगा ही. लेकिन एक बात हमें हमेशा आश्चर्यचकित करती है. हम भले-चंगे रहते हैं तो ये हमसे नहीं डरता. लेकिन हम बीमार हो जाते हैं तो इसे हमसे डर लगता है. इस इंसान ने हमेशा हमें खाया ही है. हम बीमार नहीं रहते तो इसका पेट भरते हैं. बीमार हो जाते हैं तो मर कर भी इसका भला ही करते हैं. क्योंकि हमारे मरने से ये इंसान बच जायेगा. वैसे हमें इस बात का संतोष है कि हमारा शरीर हर हाल में इस इंसान के काम ही आता है.

और मैं क्या कहूं.............

Wednesday, January 23, 2008

शादी का सर्कस




टीवी पर न्यूज़ देख रहा था. पंजाब में एक शादी के दौरान शराब पीकर नाचते हुए एक साहब की पिस्तौल चल गई. अपने आप नहीं चली, साहब चला रहे थे. अब पिस्तौल चली तो गोली भी निकलेगी ही. निकल पड़ी और शादी की विडियो रेकॉर्डिंग कर रहे युवक के दिल के पते पर पहुँच गई. नतीजा, युवक मारा गया. चैनल ने यह भी बताया कि शादी हाई-प्रोफाईल थी. हाई-प्रोफाइल इस लिए कि शादी अटेंड करते हुए एक मंत्री को देखा गया.

मुझे लगा कितनी टुच्ची बात है. अरे शादियों में पिस्तौल-बंदूक तो यूपी-बिहार में चलती है. लेकिन पंजाब में भी पिस्तौल ही चलती है, ये आईडिया नहीं था. सुना है पंजाबी ज्यादा खुश रहने वाले लोग हैं. भारत में खुशी के जितने गाने हैं, आजकल पंजाबियों के मुंह से ही सुने जाते हैं. शेर की तरह जीते हैं. लेकिन शादी में केवल पिस्तौल बजाते है. शेर की तरह जीने वालों को तो शादियों में तोप बजाने चाहिए. लेकिन बजाई भी तो केवल पिस्तौल. लानत है. हाल ही में यह ख़बर भी आई थी कि पंजाबियों को शादियों में दिखावा न करने की हिदायत शिरोमणि अकाली दल वगैरह से मिली है. अब दिखावा न करने की हिदायत दे रहे थे तो साथ-साथ ये भी कह देते कि बंदूक, पिस्तौल और तोपों की सलामी पर भी रोक लगे. ऐसी हिदायत नहीं दी गई तो बाराती बेचारे क्या करें. वे तो बजायेंगे ही.

लेकिन ये बाराती भी क्या करें. अब पिस्तौल ली है तो उसका भी तो मन रखना पड़ेगा. हो सकता है कि पिछली शादी में पिस्तौल लेकर नहीं गए हों. वापस आने पर पिस्तौल ने शिकायत की होगी कि आजकल आप अकेले ही शादियाँ अटेंड कर आते हैं, मुझे नहीं ली जाते. साथ में इस पिस्तौल ने परिवार के लोगों से शिकायत भी कर डाली हो कि; "साहब बदल गए हैं. आजकल हमें शादियों में नहीं लेकर जाते." ये भी हो सकता है कि पिस्तौल ने इन्हें ब्लैकमेल करने की धमकी दी हो. कहा हो कि; "अगर अगली शादी में मुझे नहीं ले गए तो आपके मित्र की पिस्तौल से शिकायत कर दूँगी कि अब आप में वो दम नहीं रहा." बस, बेचारा बाराती क्या करे, ले जाना पडा होगा.

शादियों में नृत्य-प्रतिभा का नज़ारा तो मिलता ही है. हर शादी में दो-चार पप्पू भइया टाइप लोग होते हैं जिनका भांगडा से लेकर नागिन डांस तक पर समान अधिकार रहता है. वे नाच नाच कर जमीन तक हिला डालते हैं. कई बार तो बाकी के बाराती पचास मीटर दूर चले जाते हैं, ये सोचते हुए कि भूकंप आ जाए तो कम से कम एपीसेंटर से कुछ दूरी पर तो रहे, नहीं तो बचने की उम्मीद कम ही रहती है. मैं सन २००४ में एक शादी में जौनपुर गया था. वहाँ ऐसे ही तीन-चार पप्पुवों को देखा डांस करते हुए. लगभग एक घंटे डांस किया इन लोगों ने. दुल्हे के दोस्त थे. जब डांस खत्म हुआ तो मैंने एक से कहा; "भाई बहुत अच्छा नाचते हैं आप. कमाल कर दिया. लेकिन थोड़ा और नाचते तो अच्छा लगता. दुल्हन की बहुत सारी सहेलियां अभी तक पंहुची नहीं थीं."

मुझे लगा मेरी बात सुनकर थोड़ा शर्मायेंगे. लेकिन उन्होंने तुरंत जवाब दिया; "क्या है भैया कि जगह थोडी छोटी थी. नहीं तो और मज़ा आता." उनका जवाब सुनकर मैं चारों खाने चित. फिर उन्होंने पिछले तीन साल में किए गए अपने शादी-डांस का पूरा व्यौरा सुनाया. मुंह से शराब नामक पेय पदार्थ की गंध ऊपर से. मुझे लगा कहाँ चला जाऊं कि इनसे बचूं. डांस करते हुए एपीसेंटर से काफ़ी दूर था लेकिन इनके साथ बात करके तो वैसा ही महसूस हुआ जैसे सीधा-सीधा ज्वालामुखी में उतर गए हैं.

जिस तरह से शादियाँ आयोजित की जा रही हैं, उसे देखकर लगता है कि आने वाले समय में शादी के कार्ड में लिखा मिलेगा कि; 'फलां की शादी में आयोजित होने वाले सर्कस में आप आमंत्रित हैं.' ये भी लिखा मिल सकता है कि; 'आप साथ में पत्नी को लायें या न लायें लेकिन अपनी पिस्तौल या बंदूक लाना मत भूलियेगा. नृत्य-प्रतिभा में पारंगत लोगों को प्रेफेरेंस दिया जायेगा.'

चलते-चलते

ख़बर आई है कि एक समाजवादी को लोगों ने समाजवादी मानने से इनकार कर दिया है. लोगों का मानना है कि अब उसके अन्दर पर्याप्त मात्रा में कन्फ्यूजन नहीं रहा. इस समाजवादी की पार्टी ने इसे हिदायत दी है कि अगले एक महीने तक वो रोज तीन घंटे अपने अन्दर कन्फ्यूजन पैदा करने की प्रैक्टिस करे. ठीक जयप्रकाश बाबू की तरह.

Tuesday, January 15, 2008

भारत-रत्न का इतिहास- साल २००७









पिछले कुछ दिनों में भारत-रत्न नामक पुरस्कार लेने-देने की काफी चर्चा है. पता नहीं ये पुरस्कार किसे मिलेगा. लेकिन आज से सौ साल बाद अगर कोई छात्र 'भारत-रत्न का इतिहास' नामक पुस्तक पढ़ेगा तो साल २००७ के भारत-रत्न पुरस्कार के बारे में शायद ऐसा कुछ पढने को मिले. अब आए दिन हम सुनते हैं कि इतिहास की किताब में लिखी गई फला बात सच नहीं है. ऐसे में इस किताब में भी ऐसा कुछ हो सकता है जो सच नहीं हो.
-----------------------------------


देश में मौसम बदल चुका था. अभी चुनाव का मौसम कूच कर ही रहा था कि भारत-रत्न का मौसम आ गया. सचिन, नारायण मूर्ति वगैरह की दावेदारी पर टीवी पैनल डिस्कशन का सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हो चुका था. अभी टीवी कीर्तन शुरू ही हुआ था कि विपक्ष के तत्कालीन नेता और 'प्रधानमंत्रित्व कैंडीडेट' आडवानी जी ने सरकार को चिट्ठी लिख दी. वे चाहते थे कि उनकी पार्टी के अटल बिहारी बाजपेई जी को भारत-रत्न मिलना चाहिए. अब लेफ्ट वालों की चिट्ठी होती तो बात और थी. लेकिन बीजेपी वालों की चिट्ठी थी इसलिए सरकार ने इसे सार्वजनिक करने में देर नहीं की. बस, फिर क्या था. चिट्ठी लेखन और मीडिया संबोधन का राजनैतिक कार्यक्रम शुरू हो गया. कांशी राम जी का नाम आया तो दूसरी तरफ़ से करूणानिधि का नाम आया. ज्योति बसु का नाम भी कहाँ पीछे रहने वाला था, वो भी आया. जब सब राहत की साँस ले ही रहे थे कि और किसी नेता का नाम नहीं आएगा ठीक उसी समय महान नेता चौधरी देवीलाल का नाम आगे आया.

कुछ इतिहासकार मानते हैं कि भारत-रत्न के लिए और भी नेताओं, अभिनेताओं, अभिनेत्रियों और कलाकारों के नाम भी आए. जहाँ एक और राखी सावंत, हिमेश रेशैम्मैया और उस समय के महान गायक मीका का नाम आया वहीं दूसरी ओर सुभाष घिसिंग, रामदास अथावले और तिलंगाना पार्टी के चंद्रशेखर राव और 'कर-नाटक' के प्रसिद्ध सेकुलर नेता एच डी देवेगौडा के नाम सामने आने की अटकलें भी लगीं. साथ में उनके पुत्र एच डी कुमारस्वामी ने अपने लिए 'मिनी भारत-रत्न' की मांग भी कर डाली थी.

(नोट: कुछ इतिहासकार तो ये भी मानते हैं कि आई बी द्वारा ट्रैक किए गए संवाद के अनुसार पाकिस्तान के तत्कालीन शासक परवेज़ मुशर्रफ भी भारत-रत्न पाने की फिराक में थे. जब किसी अफसर ने उन्हें बताया कि ये पुरस्कार तो केवल भारत के नागरिकों के लिए था तो मुशर्रफ साहब ने कहा कि; भारत में किसी बाहरी आदमी के लिए राशनकार्ड बनवाना बहुत आसान था लिहाजा वे राशनकार्ड आसानी से बनवा लेते और साबित कर देते कि वे भारत के ही नागरिक थे.)

राजनैतिक कद-काठी वाले लोगों के नाम आने शुरू ही हुए थे कि वोटर जाग गया. देश के किसी शहर में रमेश वोटर ने सुरेश वोटर से पूछा; "सरकार नेता लोगों को ही क्यों भारत रत्न बनाने पर अमादा हैं?"

सुरेश वोटर ने बताया; "भारत का सारा रत्न नेताओं के कब्जे में हैं. ऐसे में कोई नेता ही भारत-रत्न बनने लायक है."

रमेश वोटर ने दूसरा सवाल दागा; "लेकिन अगर इन नेताओं को भारत-रत्न नहीं मिला तो इसका परिणाम क्या हो सकता है?"

सुरेश वोटर ने अपने ज्ञान का खुलासा करते हुए कहा; " परिणाम यही होगा कि सरकार गिर सकती है. जो पार्टियां सरकार को अपने एमपी गिफ्ट कर चुकी है वो अपना गिफ्ट वापस ले लेंगी."

रमेश वोटर के ज्ञान-चक्षु अचानक खुल गए. उसने कहा; "लेकिन एमपी लोग तो हमारे वोट से ही एमपी बनते हैं. ऐसे में ये कहाँ तक उचित है कि हमारा वोट लेकर वे अपने नेता को भारत-रत्न बनवायें. वोट हमारा और भारत-रत्न इनका, ये बात तो ठीक नहीं है."

सुरेश वोटर ने हाँ में हाँ मिलाते हुए कहा; "हाँ यार, बात तो तेरी ठीक है. जब हमारा वोट है तो भारत-रत्न भी तो हमें ही मिलना चाहिए. क्यों न हमलोग भी अपना-अपना नाम भारत-रत्न के लिए सरकार को दें. क्या बोलता है? कैसा है मेरा आईडिया?"

रमेश वोटर बोला; "एक दम धाँसू आईडिया है. हम सरकार को चिट्ठी लिखेंगे कि वो हमें भारत-रत्न दे नहीं तो हम आनेवाले चुनाव में उसे वोट नहीं देंगे."

करीब दो महीने बाद भारत सरकार के सांस्कृतिक मंत्रालय से एक रिपोर्ट गृह मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय पहुँची. रिपोर्ट में लिखा था:
ज्ञात हो कि मंत्रालय को अब तक करीब सत्तर करोड़ चिट्ठियां प्राप्त हुई हैं. देश का हर वोटर चाहता है कि उसे ही भारत-रत्न दिया जाय. सब ने सरकार को धमकी दी है कि अगर भारत-रत्न उन्हें नहीं मिला तो वे आनेवाले चुनाव में सरकार को वोट नहीं देंगे.चूंकि सरकार आनेवाले चुनाव के बाद गिरना नहीं चाहती, इसलिए सरकार ने फैसला किया है कि सरकार एक आयोग बनाएगी जो ये रिपोर्ट देगा कि इतनी भारी मात्रा में भारत-रत्न पुरस्कार का वितरण कैसे किया जाय.


ये पोस्ट मैंने कल लिखी थी. लिखने के बाद मेरे मन में विचार आया कि कहीं इस पोस्ट की वजह से ऐसा न लगे कि भारत-रत्न पुरस्कार का मजाक उड़ाया गया है. इसीलिए मैंने इस पोस्ट को पब्लिश नहीं किया. लेकिन आज के समाचार पत्रों में जिस तरह से कुछ और लोगों के नाम सामने आए, मुझे लगा कि भारत-रत्न पुरस्कार का असम्मान इनलोगों की वजह से हो रहा है. फिर भी मैं कहना चाहता हूँ कि पुरस्कार के प्रति मेरे मन में कोई असम्मान नहीं है. ऐसे पुरस्कार किसी तरह के लेख और व्यंग के ऊपर हैं. ठीक वैसे ही, जैसे राष्ट्रपति का पद.

Saturday, January 12, 2008

अच्छा, ये ग्लोबल वार्मिंग है क्या?




बिजनेसमैन हैं. एनजीओ के धंधे में कई सालों से हैं. सामजिक कार्यों की शुरुआत रक्तदान शिविर के आयोजन से हुई. बाद में मामला रक्तदान से कुछ आगे जाकर मुहल्ले के लिए 'लाईब्रेरी' और क्लब खोलने तक पहुंचा. करीब दस साल हुए, सत्ताधारी पार्टी के लिए जब पहली बार बूथ दखल का काम किया. बदले में राज्य सरकार से ग्रांट वगैरह का हिसाब बैठा दिया. मामला और आगे चल निकला. दूसरी बार बूथ दखल किया तो बदले में जमीन मिली. अब धंधा जोरों पर है. चन्दा इकठ्ठा करने काम काम काबिल हाथों में है, सो चिंता की बात नहीं है. पहले मुहल्ले में घूम कर ख़ुद चन्दा इकठ्ठा करते थे. अब 'लडके' हैं. अब चन्दा की बात पर कहते हैं; "समय के हिसाब से आदमी को बदल जाना चाहिए. अब तो मैं केवल बड़े लोगों के पास ही चन्दा लेने जाता हूँ."

मुझसे थोडी जान-पहचान है. कुछ दिन पहले ही फ़ोन पर एक काम करने के लिए आदेश दिया था उन्होंने. एक नया एनजीओ बनाया है, उसके लिए चार्टर्ड एकाउंटेंट से सर्टीफिकेट चाहिए. ऊपर से ये पहले ही बता चुके थे कि; "पैसा नहीं दूँगा मैं. अरे सामाजिक कार्य में तो फीस लेना ही नहीं चाहिए."

आज आफिस में आ धमके. आते ही जो सबसे पहला काम किया वो था जैकेट को निकाल कर कुर्सी पर फेंकना. जैकेट फेंकते हुए बोले; "क्या समय आ गया है. देखिये आज जनवरी की १२ तारीख है और ऐसी गरमी. अब तो लगता है कि दस साल में जाड़ा का मौसम रहेगा ही नहीं. केवल दो मौसम रह जायेंगे, गरमी और बरसात."

मेरे एक मित्र आफिस में बैठे थे. उनकी बात सुनकर मित्र के मुंह से निकल गया; "क्या करेंगे जी, सबकुछ इस ग्लोबल वार्मिंग की वजह से हो रहा है."

ग्लोबल वार्मिंग की बात सुनते ही उनके कान खड़े हो गए. मित्र से तुरंत पूछ बैठे; "ये ग्लोबल वार्मिंग क्या है? कई बार लोगों के मुंह से सुना है. वैसे ये है क्या?"

मित्र ने बताना शुरू किया; "देखिये, होता क्या है कि पेड़ वगैरह कटने से गरमी बढ़ गई है. दुनिया में जहाँ-जहाँ बर्फ जमी हुई है, वह पिघल रही है. उसके साथ में एसी, फ्रिज वगैरह चलाने से गैस निकलती है. मोटर गाडी का धुआं है सो अलग. इतना पलूशन की वजह से दुनिया में एक दिन बरफ का भण्डार ही खत्म हो जायेगा."

"समझ गया, समझ गया. ऊपर से ये टाटा की गाड़ी इतनी सस्ती आ रही है. तब तो और झमेला होगा. और बरफ पिघलेगा. नहीं? अरे जब सबके पास गाड़ी होगी, तब तो समस्या और बड़ी हो जायेगी"; उन्होंने चिंता जाहिर किया.

"हाँ. आपका अनुमान एक दम सही है"; मेरे मित्र ने कहा.

उन्होंने तुरंत किसी को फ़ोन लगाया. फ़ोन मिलते ही कहना शुरू किया; "सुनो, आज शाम को ही एक ठो रैली करनी है. बिशराम को बुला लो. मैं अभी आ रहा हूँ. बिशराम से कहना दो-तीन कारीगर लेकर आए. कम से डेढ़ सौ बैनर बनवाना है. मैं आकर बताता हूँ क्या लिखना है. और हाँ, धानुका और केडिया को फ़ोन कर के बोलो भइया पैसा मांगे हैं. बोलना ग्लोबल वार्मिंग पर सेमिनार आयोजित करना है."
इतना कहकर वे उठ खड़े हुए. बोले; "मैं अभी तो चलता हूँ. अब ये आयोजन करना है. आप मेरा वो सर्टीफिकेट वाला काम करवा दीजिये. मैं सोमवार को आऊँगा.

Thursday, January 10, 2008

अलग अलग ब्लॉगरों की नजर में भारत की हार






cricket_game_face

भारत सिडनी टेस्ट मैच हार गया. रेकॉर्ड बुक के हिसाब से हार गया. वैसे ये बात रेकॉर्ड बुक में नहीं लिखी जायेगी कि ऑस्ट्रेलिया केवल खिलाडियों के अच्छे खेल से नहीं जीता. ये बात तो केवल हमारे जेहन में लिखी जायेगी.

उक्त ख़बर पर हर चिट्ठाकार अलग-अलग तरीके से पोस्ट लिखेगा. उन पोस्ट में से अगर अंश निकाला जाए तो शायद कुछ ऐसा निकले:

अलोक पुराणिक जी
ऑस्ट्रेलिया तो सिडनी मैच घणा ही जीत लिया जी. अपन तो वैसे भी टेस्ट मैच नहीं देखते. देखें भी क्यों, उसमें चीयरलीडरनियाँ नहीं होतीं. बिना चीयरलीडरनियों के क्रिकेट का मज़ा ही क्या. मैंने बकनर से पूछा 'आपने तो बहुत गलतियाँ कर दीं.' बोले 'मेरा दोष नहीं है. मैच में चीयरलीडरनियाँ नहीं थी. सो मेरा ध्यान अम्पायरिंग में नहीं लगा.'

मैंने कहा आपने इतने ग़लत फैसले दिए. ऐसा कैसे हुआ. बोले 'मैं बार-बार चीयरलीडरनियाँ खोजने में लगा था. नहीं मिलने पर दुखी हो लिया. पहला ग़लत फैसला मैंने इसी वजह से दिया. बाद में दीपिका पादुकोन को देखा तो ध्यान उधर चला गया. दूसरा ग़लत फैसला इस लिए हो गया. मैंने बकनर से कहा कि पाकिस्तान में आपकी बहुत डिमांड होगी. आप वहाँ चले जाइये. वहाँ इलेक्शन है. आप वहाँ इलेक्शन के आब्जर्वर बन जाइये. बोले 'वहाँ की सरकार ने मुझे आज ही पूछा है. मैं वहाँ जाने पर विचार भी कर रहा हूँ.

मैंने एक लेफ्ट के लीडर से पूछा कि भारत को ऑस्ट्रेलिया में हरा दिया गया, आपका क्या कहना है? लीडर ने कहा; 'हमने सरकार को अल्टीमेटम दे दिया है. सरकार टीम को वापस नहीं बुलाती तो हम सपोर्ट वापस ले लेंगे.' एक कांग्रेसी नेता मिल गए. मैंने उनसे पूछा तो बोले अच्छा हुआ जो टीम हार गई. नहीं तो पिछले एक महीने से हार की बात हमें ही निशाना बनाया जाता था. वैसे भारत की हार को हम क्रिकेटीय लोकतंत्र में काला दिन की तरह देखते हैं.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी विपक्षी टीम का मनोबल गिरा देते हैं. एकाग्रता भंग करने के लिए गाली देते हैं. मैंने शरद पवार से पूछा कि इस बात के लिए हमारे पास क्या काट है. बोले 'अगली बार बोर्ड टीम के साथ राखी सावंत को भी भेजेगा. नए कोच ने सुझाव दिया है कि राखी सावंत वहाँ जाकर ऐसे ऐसे ड्रामे करेंगी और गालियाँ देंगी कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाडियों की एकाग्रता भंग हो जायेगी और भारत मैच जीत जायेगा.' तमाम भूत-प्रेत चैनल भी अब केवल क्रिकेट की न्यूज़ दिखा रहे हैं. मतलब इनलोगों को क्रिकेट में भूत-प्रेत को फिट करने के लिए कोई तरकीब निकालनी चाहिए.


नीरज भैया (नीरज गोस्वामी जी)

cricket_bat_01



विपक्षी टीम को दिल से भी जो सम्मान देते हैं

उन्हें ही जीत का तोहफा स्वयं भगवान् देते हैं

है लानत भेजती दुनिया सदा ही ऐसे लोगों पर

जो खातिर जीत की, सच का सदा बलिदान देते हैं


भुला दे रंज-ओ-गम, और दे खुशी, ऐसा फलक ढूंढें

जमी पर रहने वाले मौत का सामान देते हैं

खुदा की गाज गिरती है सदा ऐसे ही लोगों पर
दुखाकर दिल किसी का जो उन्हें नुकसान देते हैं

भला इस जीत से भी क्या मिलेगा सोच लो 'नीरज'
जिसे पाकर खिलाड़ी झूठी एक पहचान देते हैं


ज्ञान भैया (ज्ञानदत्त पाण्डेय)

भरत लाल की क्रिकेट में रूचि की वजह से ही मुझे पता चला की भारत ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट मैच हार गया. क्रिकेट और फिल्मों के बारे में मेरी जानकारी सीमित या कह सकते हैं कि न के बराबर है. फिर भी इतना जरूर कह सकता हूँ कि खेल के बारे में बुनियादी बात है दोनों दलों का खेल भावना से खेलना. खेल भावना ही सर्वोपरि है. जीत-हार उसके बाद. जहाँ तक ऑस्ट्रेलियाई टीम की बात है, तो मेरा मानना है नर्सीसिज्म और संकुचित विचार उनके खेल पर हावी है. हर स्थिति में जीत जाने की मनोदशा न तो व्यक्तित्व के विकास में सहायक होती है और न ही खेल भावना के विकास में.

वैसे तो मुझे तो लगता है मित्रों कि अलग-अलग संस्कृति में पलने और बढ़ने वाले लोगों की सोच एक जैसी नहीं हो सकती. ऐसी स्थिति में दो दलों का दो अलग-अलग ध्रुवों पर खड़े रहना संस्कृति की इस भिन्नता की परिणति है. एक दल जहाँ जीत को ही अपनी बौद्धिकता और कार्य क्षमता की पराकाष्ठा मानता है वहीं दूसरा दल प्रतियोगिता में शामिल होने को ही खेल भावना मानता है. मुझे तो ऐसा प्रतीत होता है कि सच्चाई कहीं इन दो ध्रुवों के बीच है. वैश्वीकरण के इस युग में हमें मध्यमान खोजने की जरूरत है.

फुरसतिया सुकुल (अनूप जी)

two-yellow-nest


चिठेरा: कैसे बेईमान लोग हैं ये ऑस्ट्रेलिया वाले भी. बताओ, भारत को बेईमानी से हरा दिया.

चिठेरी: क्या दो दिन से एक ही बात की रट लगाए रो रहा है. वैसे भी तू कौन सा ईमानदार है? जब देखो तिरछी नज़रों से ताकता रहता है मुझे.

चिठेरा: अरे शुकर कर कि मैं तुझे ताकता तो हूँ. और फिर इसमें कैसी बेईमानी. बेईमानी तो तब होती जब किसी और को ताकता. मेरे अन्दर चोर नहीं है. मैं बकनर की तरह ग़लत फैसला देकर दूसरी तरफ़ नहीं ताकता.

चिठेरी: ये क्रिकेट का बुखार तुझे ऐसा चढा है कि सबकुछ भूल गया है. पन्द्रह दिन हो गए एक पोस्ट नहीं लिखी.

चिठेरा: पोस्ट को मार गोली. वैसे भी किसने पोस्ट लिखी पिछले पन्द्रह दिन में. पोस्ट लिखकर भी क्या आनी-जानी है. उड़न तश्तरी जब से उड़कर भारत पहुँची है तब से कमेंट के लाले पड़ गए हैं. अभय तिवारी से लेकर बोधिसत्व तक, सब नया साल मना रहे हैं. वो भी क्रिकेट देखकर. फुरसतिया सुकुल न जाने कहाँ गायब हैं.

चिठेरी: सुकुल तो इंडिया की हार से परेशान पुराणिक मास्टर के साथ चिट्ठाकार सम्मेलन अटेंड कर रहे होंगे कहीं. जबरिया लिखने की बात तो छोड़ अब तो कहने से भी नहीं लिखते. इंडिया की क्रिकेट टीम की तरह अड़ गए हैं.

चिठेरा: इसीलिए तो मैं भी अड़ा हुआ हूँ. अब जबतक भारत क्रिकेट में जीतेगा नहीं, मैं कोई पोस्ट नहीं लिखने वाला.

चिठेरी: अरे क्रिकेट में तो हार-जीत लगी ही रहती है. दो खेलेंगे तो एक तो हारेगा ही. देखता नहीं दो ब्लॉगर कहा-सुनी करते हैं तो लास्ट में एक तो चुप हो ही जाता है.

चिठेरा: तू भी रह गई चिठेरी की चिठेरी. बात हारने की नहीं हो रही. बात बेईमानी की हो रही है. ऊपर से भज्जी को रेसिस्ट बोल दिया ऑस्ट्रेलिया वालों ने.

चिठेरी: बड़ा अंग्रेजी झाड़ रहा है. ये रेसिस्ट कहाँ से सीखा.

चिठेरा: अरे ये शब्द तो मुझे भी नहीं मालूम था. न ये भज्जी उस साईमंड को बन्दर कहता और न ये शब्द सुनने को मिलता.

चिठेरी: अच्छा. तो तू मानता है कि भज्जी ने उसको बन्दर कहा?

चिठेरा: अब पता नहीं कहा या नहीं. लेकिन कहा भी होगा तो क्या फरक पड़ता है. तू ही बोल, उस साईमंड को देखकर और क्या कहेगा कोई?Wink

चिठेरी: देख अब तू बात को घुमा रहा है. इसका मतलब साईमंड ठीक ही कहता है कि भज्जी ने उसे बन्दर कहा.

चिठेरा: कहा तो कहा. साईमंड कौन सा दूध का धुला है?

चिठेरी: ये देख ये देख. सही बात आ गई न सामने.

चिठेरा: सही बात कैसी. सही बात तो यही है कि इंडिया की टीम को बेईमानी से हरा दिया गया.

चिठेरी: ठीक है ठीक है. अब तो तेरी टीम अड़ गई है कि जब तक हरभजन के ऊपर से बैन नहीं उठता, नहीं खेलेगी.

चिठेरा: यही तो बात है न. ऐसा ही होना चाहिए. कभी न कभी तो ये होना ही था. मैंने कहा न अब तो मैं भी अड़ गया हूँ. जब तक हरभजन के ऊपर से बैन नहीं हटता, मैं भी कोई पोस्ट नहीं लिखूंगा.

चिठेरी: ठीक है ठीक है. जो तेरे दिल में आए कर. मैं तो जा रही हूँ.

चिठेरा: अरी सुन तो. मेरी बात तो सुन.

चिठेरी: सुना. क्या बोलता है?

चिठेरा: कब मिलेगी अब?

चिठेरी: मैं भी अड़ गई हूँ. अब जबतक तू कोई पोस्ट नहीं लिखता, मैं मिलने ना आऊँगी तुझसे. पहले एक पोस्ट लिख और मेरी पोस्ट पर कमेंट कर तब मिलने आऊँगी तुझसे.

मेरी पसंद

उड़ान वालों, उड़ानों पे वक्त भारी है

परों की अब के नहीं, हौसलों की बारी है

मैं कतरा हो के तूफानों से जंग लड़ता हूँ

मुझे बचाना समंदर की जिम्मेदारी है


कोई बताये ये उसके गुरूर-ए-बेजा को

वो जंग हमने लड़ी ही नहीं जो हारी है


दुआ करो कि सलामत रहे मेरी हिम्मत

ये एक चराग कई आँधियों पे भारी है

--वसीम बरेलवी



और अंत में...

ये तो रही चिट्ठाकारों की बात. लेकिन क्रिकेट के बारे में किसी क्रिकेटर को भी तो बोलना चाहिए. किसी ने सिद्धू साहब से पूछ लिया. हरभजन के ऊपर बैन लगा दिया गया है. आप का क्या कहना है?...

सुनिए, सिद्धू साहब ने क्या कहा.. "देखिये, गन्ने में फूल नहीं होता. राजा दीर्घजीवी नहीं होता. पहाड़ ऊंचा होता है. समंदर गहरा होता है. चिडिया आसमान में उड़ती है. आदमी जमीन पर चलता है. आया है सो जायेगा राजा, रंक, फकीर. कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता, कभी जमी तो कभी आसमा नहीं मिलता. देखिये, हरभजन सिंह वो हीरा है जिसकी चमक वैसे ही है जैसे फूल की सुगंध हवाओं में चारों तरफ़ फ़ैली रहती है और पूरे संसार को एक जहीन सुगंध देती है. हरभजन भारत माँ का एक ऐसा लाल है..............................(सुनने वाले सो चुके थे.)Sleepy


Tuesday, January 8, 2008

Monday, January 7, 2008

सांताक्लाज के साथ बतडंग - भाग एक






सांता क्लाज मिल गए. जी हाँ, कलकत्ता पहुँच चुके हैं. परसों ही दिल्ली के मेंटल हॉस्पिटल से छुट्टी मिली. छुट्टी मिलते ही भाग लिए. प्रण किया कि अब दिल्ली नहीं जायेंगे कभी. मुझे देखते ही दूसरी तरफ़ भागने लगे. मैंने आवाज लगाई तो रुके. मैंने पूछा; "क्यों भाग रहे हैं?"

बोले; "तुम भी तो ब्लॉगर हो न. मैंने तुम्हारी फोटो देखी है. इसीलिए डर के मारे भाग रहा हूँ." इतना कहकर फिर से भागने लगे. मैंने आवाज़ लगे; "अरे सांता अंकल, सुनो तो."

मेरी बात सुनकर एकदम से रुक गए. नाराज होते हुए बोले; "क्या, तुमने मुझे अंकल कहा?"

मैंने कहा; "तो क्या हुआ जो मैंने आपको अंकल कहा? आपको बुरा लगा क्या?"

बोले; "क्यों, तुम्हें कोई अंकल कहता है तो तुम्हें अच्छा लगता है क्या?"

मैंने कहा; "नहीं मुझे एकदम अच्छा नहीं लगता. लेकिन ये बताईये, आप ब्लागरों से डरते हैं क्या?"

बोले; "डरते हैं. ब्लागरों से कौन नहीं डरता? तुम ख़ुद एक ब्लॉगर हो, लेकिन क्या तुम भी ब्लागरों से नहीं डरते?"

मैंने कहा; "आप ठीक कह रहे हैं. लेकिन आप ब्लागरों से इतना डरते क्यों हैं?"

बोले; "पुराणिक जी से मुलाक़ात के बाद जो अनुभव रहा, उसके बाद कोई भी ब्लागरों से डरेगा ही. पूरे चार पोस्ट तक मुझसे सवाल-जवाब करते रहे. ऐसा तो मेरे साथ ऍफ़बीआई वालों ने भी नहीं किया."

ऍफ़बीई का नाम सुनकर मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ. मुझे लगा ऐसा क्या हो गया कि ऍफ़ बी आई वालों ने इन्हें पकड़ लिया. मैंने उनसे पूछा; "क्या ऐसा भी कभी हुआ है कि ऍफ़बीआई वालों ने आपसे भी पूछ-ताछ की है?"

बोले; "हाँ, पिछले साल उन लोगों ने मुझे पकड़ लिया था. उन्हें मेरे ऊपर शक था."

मैंने पूछा; "आपके ऊपर भी लोग शक करते हैं. लेकिन ऍफ़ बी आई वालों को किस बात का शक था आपके ऊपर?"

सांता ने इधर-उधर देखा. फिर उदास होकर बोले; "उनलोगों को शक था कि मेरी इस झोली में डब्लूएमडी है."

"डब्लूएमडी, आपका मतलब वीपन आफ मास...."; मैंने अपनी बात पूरी करने वाला था कि उन्होंने कहा; "हाँ-हाँ, वही. उन्हें शक था कि मैं अपनी झोली में डब्लू एम डी रखता हूँ"

मेरी उत्सुकता बढ़ गई. मैंने पूछा; "लेकिन ऐसा हुआ कैसे? उन्हें आपके ऊपर ऐसा शक क्यों हुआ?"

बोले; "तुम्हें तो मालूम ही है. इराक में चार सालों से अमेरिकी सैनिक हैं. मर रहे हैं, मार रहे हैं. कुछ तो पूरी तरह से टूट चुके हैं. तो उन्हें खुश रखने के लिए मैं पिछले साल इराक चला गया था. उनके साथ कुछ दिन था. वहाँ से जब निकला और अमेरिका पहुँचा तो वहाँ किसी ने ऍफ़ बी आई को बताया कि मैं इराक से अमेरिका में घुसा हूँ. बस, ऍफ़ बी आई वालों ने पकड़ लिया."

मैंने पूछा; "फिर आप छूटे कैसे? मैंने तो सुना है कि ऍफ़ बी आई के पास जो फंस गया, उसका छूटना बहुत मुश्किल है."

बोले; " अरे, बहुत सारे अफसरों के बीच एक इंटेलीजेंट अफसर भी था. मेरी झोली की छान-बीन के बाद बोला कि जब तुम्हारी झोली में तेल का कुआँ ही नहीं है तो फिर डब्लू एम् डी होने का कोई चांस नहीं. तुम जा सकते हो."

मैंने कहा; "अच्छा हुआ ऍफ़ बी आई में कुछ इंटेलिजेंट अफसर हैं. नहीं तो आपको तो वे लोग छोड़ते ही नहीं. हो सकता है आपको भी जेल में रख देते."

बोले; "ठीक ही कह रहे हो. मैं तो बच गया."

"वैसे पुराणिक जी ने जो सवाल-जवाब किए, उससे आप विचलित नहीं हुए?"; मैंने उनसे पूछा.

बोले; "पहली पोस्ट में तो थोड़ा डरा लेकिन बाद में लगा कि पुराणिक जी तो शिक्षक हैं. उन्हें छात्रों से सवाल करने की आदत होगी. इसीलिए बाद की पोस्ट में उनके सवाल एन्जॉय करने लगा."

Thursday, January 3, 2008

रीढ़हीन समाज निकम्मी सरकार और उससे भी निकम्मी पुलिस डिजर्व करता है




मुम्बई.

दो टीवी पत्रकार आपस में बात कर रहे हैं. "बहुत बुरा हाल है कानून-व्यवस्था का. औरतें सुरक्षित नहीं रही इस शहर में भी. तुम्हें क्या लगता है?"; पहले पत्रकार ने पूछा.

"मुझे भी कुछ ऐसा ही लगता है. लेकिन हमें कोई निष्कर्ष नहीं निकालना चाहिए. थोडी देर में ही कमिश्नर आयेंगे. उन्ही से पूछ लेते हैं कि कानून-व्यवस्था की स्थिति क्या सचमुच ख़राब है. औरतें क्या सुरक्षित नहीं हैं. अगर वे बोल देंगे, तभी समझना कि औरतें सुरक्षित नहीं हैं"; दूसरे ने कहा.

दूसरे का वक्तव्य ठीक उसी तर्ज पर था जैसे किसी जिले में महीनों से पानी नहीं बरसा. फसल नष्ट हो चुकी है. लोगों को पीने का पानी उपलब्ध नहीं है. लेकिन जब तक सरकार उस जिले को सूखाग्रस्त नहीं घोषित करेगी, तब तक यह नहीं माना जा सकता कि जिले में सूखा पडा है.

कमिश्नर साहब आए. पत्रकार ने उनसे सवाल किया "आपको क्या लगता है, मुम्बई शहर में महिलाएं क्या सुरक्षित नहीं हैं?"

"पूरी तरह से सुरक्षित हैं. अगर ऐसा नहीं होता तो आप अपनी पत्नी को घर में छोड़कर यहाँ नहीं होते"; कमिश्नर साहब ने जवाब दे डाला.

लीजिये, टीवी वालों को 'बाईट' चाहिए थी और कमिश्नर साहब ने अपने जवाब से पत्रकारों को 'काट' खाया. अब साहब की यही 'बाईट' बार-बार टीवी पर दिखाकर उन्हें कोसा जा रहा है. समस्याओं को सुलझाने का काम पिछले कई सालों से टीवी के पैनल डिस्कशन और सेमिनारों के द्वारा किया जा रहा है.

देखकर लगता है जैसे सरकार इन टीवी वालों से विनती करती है कि आप हमारा काम कर दीजिये न. कहीं पर नक्सली हमला करते हैं तो सरकार इनसे कहती होगी; "ये नक्सलियों का आतंक बढ़ गया है, आप कुछ कीजिये न."

टीवी वाले पूछते होंगे; "हम क्या कर सकते हैं? ये तो कानून-व्यवस्था की समस्या है."

सरकार कहती होगी; "आप एक पैनल डिस्कशन आयोजित कीजिये अपने चैनल पर. समस्या ख़त्म हो जायेगी." और टीवी वाले बेचारे लग जाते हैं पैनल डिस्कशन के आयोजन पर. जनता से एसएम्एस लेकर समस्या का समाधान खोजते हैं. नक्सलियों की समस्या के इतिहास और भूगोल पर बात शुरू हो जाती है. दो दिन तक ऐसे ही चलता है. तब तक कोई और समस्या आ जाती है. अब नक्सलियों की समस्या का नंबर एक महीने बाद आएगा जब कोई नया हमला होगा.

कल बारी थी नए साल के मौके पर मुम्बई में दो महिलाओं के साथ हुई हिंसा की. पैनल डिस्कशन में तीन-चार लोग थे. एक थे अलीक पद्म्सी. ये साहब भारतवर्ष की दो-तिहाई समस्याओं के अकेले विशेषज्ञ हैं. इन्होने आधे घंटे के अन्दर वात्सायन, कामसूत्र, मुग़ल और अंग्रेजों का इतिहास बता डाला. सबकुछ बताकर इन्होने नेताओं को दोष दे डाला. हो सकता है इनको पता हो कि सत्तर-अस्सी लोगों की भीड़ को किसी नेता ने उकसाया था.

पहले भीड़ इकट्ठी होती थी तो ट्रक, बस और ट्रेन वगैरह जलाने के काम आती थी. बाद में दंगे करवाने के काम आने लगी. अब हालत ये है कि औरतों के ख़िलाफ़ हिंसा भी समूह कर रहा है. ऐसे समूह से बनने वाला रीढ़हीन समाज निकम्मी सरकार और उससे भी निकम्मी पुलिस डिजर्व करता है. उससे ज्यादा कुछ नहीं.

Tuesday, January 1, 2008

बेनजीर की हत्या हो गई - आपके पास भी कोई वीडियो है क्या?






बेनजीर भुट्टो की हत्या हो गई. हत्या हो गई? नहीं-नहीं हत्या नहीं, मौत हुई है. पहले दो दिन तक तो यही बताया गया कि उनकी हत्या हो गई. बाद में पता चला कि असल में मौत हुई. भुट्टो की पार्टी वालों का मानना है कि हत्या हुई है. सरकार का मानना है कि मौत हुई है. आम जनता को केवल यही पता है कि बेनजीर नहीं रहीं. सरकार ने वीडियो देखकर बताया कि कार के लीवर से उनकी मौत हुई. पार्टी वालों ने बेनजीर को देखकर बताया कि गोली लगने से हत्या हुई. कुछ चश्मदीदों का मानना है कि बम ब्लास्ट करके उन्हें मारा गया.सरकार हमारे यहाँ भी है. सरकार पाकिस्तान में भी है. हमारी सरकार बम ब्लास्ट के महीनों बाद भी पता नहीं लगा पाती कि बम ब्लास्ट किसने किया. पाकिस्तान की सरकार ने एक दिन में पता लगा लिया कि बेनजीर की मौत तो कार के लीवर से टकराने की वजह से हुई. साथ में ये भी पता लगाया कि बम ब्लास्ट किसने करवाया. सरकार की तरफ़ से बयान आने के बाद हर घंटे एक नया वीडियो जारी किया जा रहा है. जिस रफ़्तार से वीडियो निकल रहे हैं, उसे देखकर लगता है कि वारदात की जगह उपस्थित हर व्यक्ति के पास एक एक वीडियो है. हर वीडियो में हत्यारों की संख्या अलग-अलग बताई जा रही है. किसी में दो तो किसी में तीन. किसी वीडियो में गोली दाहिने तरफ़ से चली है तो किसी में बाएँ तरफ़ से. हर वीडियो में किसी एक आदमी के चेहरे को एक सर्किल में डालकर बताया जा रहा है कि यही हत्यारा है. हालत ये है कि वहाँ उपस्थित लोगों में से दो तिहाई को हत्यारा बताया जा चुका है.

इतने सारे वीडियो के बारे में सुनकर लगता है जैसे रावलपिंडी में एक दोस्त दूसरे दोस्त से मिलता होगा तो तुरंत पूछता होगा; "तुम्हारे वीडियो में कितने हत्यारे थे?"

दूसरा बोलेगा; "मेरे में तो तीन थे. तुम्हारे में कितने हैं?"

पहला बोलेगा; "मेरे वीडियो में चार हैं."

हो सकता है पहला वाला बोले कि तेरे पास तो केवल एक वीडियो है. मेरे पास दो हैं. माँ अगर किचेन में है तो बेटे को टीवी के सामने बैठा दिया है. हर आधे घंटे पर उससे पूछ लेती है; "कोई नया वीडियो आया क्या?" तमाम तरह के वीडियो. तमाम तरह के दावे. अब तो केवल ये सुनना बाकी है कि बेनजीर की मौत असल में मलेरिया की वजह से हुई.

पाकिस्तान में जम्हूरियत लाने का ठेका अमेरिका ने लिया था. बाद में उसने ये ठेका बेनजीर भुट्टो को आउटसोर्स कर दिया. ये अमेरिका वालों को भी आउटसोर्सिंग के अलावा और किसी बात की समझ नहीं है. अजीब करतूत है अमेरिका की भी. जो काम ख़ुद नहीं कर सकता तो उसे लेता ही क्यों है? और फिर अमेरिका साल में तीन-चार बार पाकिस्तान को पैसा वगैरह देता है. दो-चार नेता भी दे देता जो पाकिस्तान में जम्हूरियत ले आते. या फिर जिसे पैसा दे रहा है उसी को कहता कि मैं तुम्हें पैसा दे रहा हूँ तुम मुझे जम्हूरियत दो. लेकिन नहीं, पैसा किसी और को दे और जम्हूरियत लाने का काम किसी और को.

हो सकता है आनेवाले दिनों में और भी वीडियो सामने आयें. और भी लोगों को हत्यारा करार दिया जाय. ये भी हो सकता है कि चुनाव की प्रक्रिया पूरी करने के लिए नेता भी मिल जाए. देखना केवल ये है कि जिस बात के लिए सारी कवायद हो रही है, यानि जम्हूरियत, वो आती है कि नहीं.
चलते-चलते
अपने इरफान भाई पिछली दो-तीन पोस्ट से बहुत दुखी हैं. उनका कहना है कि बेनजीर का जाना और मोदी का जीतना दोनों ऐसी घटनाएं हैं जिनकी वजह से वे दुखी हैं. अपने दुःख को वे गाने सुनकर दूर कर रहे हैं.

इरफान भाई, मेरा मानना है कि दोनों घटनाएं एक सी नहीं हैं. जहाँ मोदी के केस में डेमोक्रेसी जीती है वहीं बेनजीर के केस में हारी है.