Show me an example

Wednesday, April 1, 2009

बंगाल से प्रभावित बंद?...ताला.


@mishrashiv I'm reading: बंगाल से प्रभावित बंद?...ताला.Tweet this (ट्वीट करें)!

19 comments:

  1. हमेशा की तरह बहुत ही अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर बहुत ही अच्छी जानकारी मिलती है , सबसे ख़ुशी की बात है आप ताला भी ट्रांसपरेंट लगाते हो कहाँ से लाये आप बताईये . नहीं तो .........

    ReplyDelete
  2. इसका मतलब कि आज से ब्लॉगिंग बंद..बहुत दुख हुआ जान कर.

    ReplyDelete
  3. सुन्दर अभिव्यक्ति! लगता है इसे भी अखबार वाले चुरा लेंगे..

    ReplyDelete
  4. वैसे तो हम यहाँ आए ही नहीं, मगर आप ताला मार कर कहाँ चल दिये? :)

    कहीं "चोलबे ना" वाली कोई बात तो नहीं :)

    ReplyDelete
  5. आप इस से पहले भी कोई इतनी बढ़िया पोस्ट लिखें हैं.....याद नहीं पढता....
    जय हो....
    नीरज

    ReplyDelete
  6. अरे वाह अच्छा किया साल भर का त्योहार है ्दुकान बढाकर मनाना ही चाहिये . लेकिन ज्ञान दादा की दुकान तो खुली है :)उसका क्या ?

    ReplyDelete
  7. ये फोटो तो सुबह के जागरण में छपी थी... बदला.. :)

    ReplyDelete
  8. दुखद! मतलब इस ब्लॉग को सक्रिय रखने को पोस्ट मुझे ही लिखनी होंगी!

    ReplyDelete
  9. भैयाजी, मामला क्या है? कोई टंकी ढूँढ ली क्या? :)
    अरे खोजो रे...

    ReplyDelete
  10. किस चक्कर में हैं भाई दुकान बंद करके.....????

    ReplyDelete
  11. बंद किसे कर दिया ???

    ReplyDelete
  12. अनगिनत अर्थछवियों वाले इसे आलेख के लिए आभार :) वैसे मुझे पंगेबाज भाई की बात पसंद आयी कि दुकान बढ़ाकर ही साल भर का त्‍योहार मनाना चाहिए :)

    ReplyDelete
  13. समीरलाल चले गये। अब खोल लो ताला!

    ReplyDelete
  14. ऐं! ई का मतलब भाई? घर में डांट पड़ि गैल का?

    ReplyDelete

टिप्पणी के लिये अग्रिम धन्यवाद। --- शिवकुमार मिश्र-ज्ञानदत्त पाण्डेय