Show me an example

Sunday, April 26, 2009

जोरा-जामा


@mishrashiv I'm reading: जोरा-जामाTweet this (ट्वीट करें)!


पण्डित शिवकुमार मिश्र को याद नहीं तो आत्मप्रचार खुदै करना होगा। आज से उनतीस साल पहले यह पारम्परिक जोरा-जामा-मुकुट पहन कर रीता के साथ मैं विवाह सूत्र में बंधा।

उस समय के हिसाब से भी मैं बड़ा कंजरवेटिव था। अन्यथा इस जोकरई पोशाक को उस समय भी स्वीकार नहीं करते थे युवा लड़के!

GyanRitaMarriage1   


38 comments:

  1. ज्ञान जी और रीता भाभी को बधाई हो शादी की सालगिरह की!

    ReplyDelete
  2. पोशाक बुरी तो नहीं है, बस वाजिद अली शाह की याद दिला रही है। हाँ रीता भाभी अधिक आधुनिक लग रही हैं।

    ReplyDelete
  3. शादी के सालगिरह पर हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बधाई....पोशाक परम्परा के हिसाब से थी...तो चलता है...

    ReplyDelete
  5. पंद्रह साल पहले मैं भी ये पहन चुका हूँ। कम्बख्त पीले रंग का एक जोकराधिराज लग रहा था।
    आज सोचता हूं तो हंसी आती है और एक प्रकार का सूकून भी कि चलो मैंने यह भी कर के देख लिया है :)

    ReplyDelete
  6. उस समय अच्छी पोशाक चलती थी और दूल्हे राजा किसी मुगलेआजम से कम नहीं दिखते थे .
    शादी के सालगिरह पर हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  7. ज़ालिम तेरी चाह ने क्या से क्या बना दिया..
    बड़े बुज़ुर्गों का मान रखने के बहाने से में जो न हो जाय, वह थोड़ा है !
    अपने मन में तो लड्डू फोड़ रहे और हमें भले ही आप न खवायें मिठाई
    बाँधें जाने की सुस्मृतियों के इस अवसर पर बधाई !

    ReplyDelete
  8. शुभचिन्तक पाठको को आज मोडरेशन से राहत देने हेतु ही शिवभाई ने अपना स्थान रिक्त किया होगा !
    यह एक टेन्टेटिव डायग्नोसिस मात्र है ।

    ReplyDelete
  9. शादी की सालगिरह पर बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. हमारी भी बधाई व शुभकामनायें स्वीकार करें।

    हमने इस तारीख को यहाँ जोड़ लिया है

    ReplyDelete
  11. भैया और भाभी को बधाई हो बधाई !
    वैसे आप बड़े भोले और पढाकू टाइप के हुआ करते थे. दिनेशजी की बात बिलकुल सही है... भाभीजी ज्यादा आधुनिक लग रही हैं. और जोर-जामा के तो क्या कहने !

    ReplyDelete
  12. शादी की सालगिरह की हार्दिक बधाई और आप दोनो ही बडे जंच रहे हो साहबजी इस ड्रेस मे तो.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. भैया, सच में भूल गया.

    आपको विवाह के सालगिरह की हार्दिक बधाई. सच बात है कि उन दिनों से ही लोगों ने जोरा-जामा को डिस्कार्ड करना शुरू कर दिया था. लेकिन आपने पहना. यह अपनी संस्कृति के प्रति निष्ठां की बात है. कंजर्वेटिव होना या न होना तो अलग बात है.

    ReplyDelete
  14. शादी की सालगिरह मुबारक .....परम्पराओं को मानने का भी अपना ही मज़ा है ,हांलांकि ये देखने वाले को मानने वाले की अपेक्षा ज्यादा मज़ा देता है ...

    ReplyDelete
  15. बहुत बहुत बधाई। मैंने यह वस्त्र कभी नहीं देखा था।
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  16. चिरजीवै जोरी जुगल,क्यों न सनेह गम्भीर-शतशः बधाई।

    ReplyDelete
  17. ज्ञान जी, आप दोनों को विवाह की वर्षगाँठ की अनेकानेक बधाई!

    ReplyDelete
  18. badhai aur dher saari shubh kaamnaayein

    ReplyDelete
  19. हमारी भी बधाई व शुभकामनायें स्वीकार करें सर जी ,जोड़ा -जामें का आनंद ही कुछ और था .

    ReplyDelete
  20. हमारी भी बधाई व शुभकामनायें स्वीकार करें।


    .....और वाजिद अली शाह वाली कमेन्ट मजेदार है :)

    ReplyDelete
  21. शादी के सालगिरह पर हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  22. शादी की सालगिरह पर हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  23. हम लोग तो अपनी संस्कृति और संस्कार भूल कर बिदेसिया बनते जा रहे है। शोचनीय तो यह है कि हम अपनी हर चीज़ का मखौल उडाने को मॊडर्न का जोरा-जामा पहनाते है:)

    ReplyDelete
  24. हमारी भी बधाई व शुभकामनायें
    पर मिठाई किधर है जी

    ReplyDelete
  25. न मुस्कराने का ये शौंक आप तभी से पाले है.........खैर जब बता ही दिया तो एक ठो रसगुल्ले का डब्बा अपनी ट्रेनवा से इधर भिजवा दे....हम बधाई कम्पूटर से ठेल रहे है....आदरणीय भाभी जी को भी.

    ReplyDelete
  26. शादी की सालगिरह पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  27. देर से सूचन मिल पाई. माफ़ करिएगा.

    बहरहाल भाभी जी को उनके विजय पर्व की वर्षगांठ पर बधाई और आपके औपनिवेशीकरण दिवस पर आपके प्रति गहरी सहानुभूति.
    वैसे जोरे-जामे में आप जम रहे हैं.

    ReplyDelete
  28. भला हो भाई अनूप सुकुल जी का "चिठ्ठा चर्चा " से यहाँ आये और आप व सौ. रीता भाभी जी की शादी के अवसर की तसवीर भी देख ली और खूब मुस्कुराये ;-)
    शिव भाई, ..का साझा ब्लोग आज खूब जँच रहा है आपको शादी की सालगिरह की बधाई व शुभकामनाएँ ..
    - लावण्या

    ReplyDelete
  29. बनी रहे जोड़ी दूल्हा दुल्हन की रामजी . ठीक २१ साल बाद डायमंड जुबली की प्रतीक्षा मे . हम सब

    ReplyDelete
  30. डायमंड जुबली इसे कहते हैं, शायद आपका तात्पर्य गोल्डन जुबली से था। हम तो बधाई देते हुये इतना ही कहेंगे कि ये जोड़ा प्लेटिनम जुबली मनाये

    ReplyDelete
  31. देर से आने का अफसोस है पाण्डेय साब....शादी की साल्गिरह बहु-बहुत मुबारक हो!!
    और इस जोरा-जामा का जिक्र खूब भाया, हमारी पीढ़ी तो शायद इसका नाम तलक न जानती हो....

    ReplyDelete
  32. ज्ञानजी हमने पहली बार दूल्हे की ऐसी वेशभूषा देखी... वैसे आप दोनो की जोड़ी खूब लग रही है... सालगिरह पर आप दोनो को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  33. अपने बड़े भाई की शादी (२७अप्रैल)की २५वीं सालगिरह (सिल्वर जुबिली) के जश्न में गोरखपुर चला गया था। इसी बीच आपकी सालगिरह भी हो ली। देर से ही सही, मेरी बधाई भी स्वीकारें।

    मिठाई खाने बहुत जल्द हाजिर होते हैं।

    ReplyDelete
  34. बधाई तो बनती ही है जी.. वो तो ले लीजिये पर मिठाई भी तो बनती है वो कैसे ली जाये?

    ReplyDelete
  35. बार बार ये दिन आये...मेनी हेप्पी रिटर्न ऑफ़ द दे"
    ये जोड़ी सदा यूँ ही जवान...मुस्कुराती रहे....( और कभी खोपोली चली आये)...आमीन...
    नीरज

    ReplyDelete

टिप्पणी के लिये अग्रिम धन्यवाद। --- शिवकुमार मिश्र-ज्ञानदत्त पाण्डेय